Shadi Karne Se Pahle 10 Sabse Jaruri Baaten.. Hindi Love Tips - Hindi Love Tips

Hot

October 07, 2018

Shadi Karne Se Pahle 10 Sabse Jaruri Baaten.. Hindi Love Tips

Shadi Se Pahle Marriage Law ki Jaankari Hai Jaruri

Before marrying the boys and girls know
Jab Bhi Ladkiyo Ki Shadi Ki Baat Aati Hai To har Parents ko Ak Hi Sawal Pareshan Karta Hai ki Unka Jivanshathi Unhe Khush Rakh payega Ya Nahi. Bhopal Ke Advocate 'Khalid Hafiz' kahte Hai Ki ise dar Ko Dur Karne Ke Liye Hindu Marriage Act hai, 

Isme Ladkiyo ke पक्ष me kai important provisions diye Gaye hai, taki unka पक्ष Bure halato me bhi Surakshit Rah Sake. "Hindi Love Tips" aaj Aapko Batane Jaa Rahe Hai Kus Aise hi Importent baate.

Pregnancy Ke Liye Wife Par Presser Nahi Dal Sakta Hai Husband.

Hindu Marriage Act Ke Anusar Kisi Bhi Cast ke Ladka-Ladki Marriage Kar Sakta Hai, Lekin Shadi Ke Baad Agar Husband Apna Dharma Change Karta Hai to Wife Divorce File Kar Sakti Hai.

Shadi Me Ladki Ka Parivaar Ladke Ko Chal-Achal Sampati deta hai, Vah स्त्रीधन Hai, Agar Shadi Ke Baad Pati/Sasuraal dahej ke liye Torture kare to vo स्त्रीधन vapas le Sakti Hai.

Pati Ya Sasuraal Vale शाब्दिक/अशाब्दिक Rup Se Patni Ko Torture (प्रताडित) karte Hai to Ye mamla मामला घरेलू हिंसा के दायरे में आएगा, वह एक्शन ले सकती हे॥

पत्नी पर ससुराल के किसी व्यक्ति द्वारा क्रूरता या अत्याचार करना अपराध है, अगर 7 साल के अंदर पत्नी सुसाइड करले तो मायका पक्ष ससुराल के खिलाफ एक्शन ले सकता हैे.

किसी तरह के विवाद या अनबन के चलते पति अपनी पत्नी और बच्चों का खर्च वहन नहीं करता है तो पत्नी गुजारा भत्ता के लिए अप्लाई कर सकती है इस के लिए तलाक जरुरी नहीं ।

अगर तलाक का केस चल रहा हो तो पत्नी गुजारा भत्ता मांग सकती है, तलाक के बाद मिलने वाला कम्पनसेशन पति की सैलरी और उसकी बनाई संपत्ति के आधार पर तय होगा ॥

पति की मृत्यु के बाद उसकी वसीयत के मुताबिक, पत्नी को संपत्ति में हिस्सा मिलेगा । अगर पति ने वसीयत नहीं बनाई तो पत्नी उसकी अर्जित संपत्ति में हिस्सा मांग सकती है पर पैतृक संपत्ति में नहीं॥

7 सालों से पति के जीवित होने की कोई खबर (उसके परिवार से भी नहीं) नहीं, तो पत्नी कोर्ट में याचिका दायर कर सकती है ॥ आँडॅर मिलने पर (पति को मृत घोषित कर) वह शादी से मुक्त हो जाएगी॥

पति अपनी पत्नी को जबरन गर्भधारण करने के लिए दबाव नहीं बना सकता है ॥ यदि वह ऐसा करता है तो यह अपराध की श्रेणी में आएगा ॥ पत्नी इसके खिलाफ एक्शन ले सकती हैे॥



पत्नी की सहमति के बिना पति या ससुराल का कोई व्यक्ति उसे गर्भपात के लिए मजबूर नहीं कर सकता ॥ ऐसा होने पर वह एक्शन ले सकती है ॥ Note:- भारत के कानून के अनुसार, गर्भ की वजह से जिंदगी को खतरा होने पर होने वाला गर्भपात वैध होगा ॥

YOU MAY ALSO LIKE: